E Commerce क्या है? जानिए इसके फायदे और नुकसान के बारे में

E commerce क्या है?

नमस्कार मित्रों स्वागत है। आपका आज के इस नए आर्टिकल में साथियों आज के इस आर्टिकल में हम आपको e commerce के बारे में बताने जा रहे हैं। आखिरकार यह क्या होता है? इसके फायदे एवं नुकसान क्या क्या हो सकते हैं? साथियों e commerce शब्द का मतलब Electronic Commerce अर्थात internet commerce से होता है। हम जिस किसी प्रोडक्ट पर आप इस सर्विस को इंटरनेट के माध्यम से खरीदते या बेचते हैं। तो यह प्रक्रिया e commerce कहलाती है।

और साथियों आज का यह युग इंटरनेट का युग है। और इस समय पर ज्यादा से ज्यादा व्यक्ति ऑनलाइन खरीदारी करते हैं।चाहे वह ₹10000 का कोई सामान ही क्यों ना खरीदें या फिर कोई ₹150 की चीज खरीदें तू भी वह ऑनलाइन ही खरीदता है। क्योंकि हर एक व्यक्ति चाहता है। कि कम समय में और कम पैसों में कोई भी सामान हमारे घर पर आ जाए ऐसे समय में ज्यादातर लोग सामान खरीदने के लिए ऑनलाइन शॉपिंग का सहारा लेते हैं। इसी के साथ दोस्तों उन्हें कुछ ऑफर भी मिल जाता है। जिससे उनका कुछ मुनाफा हो जाता है।तो आइए अब ई-कॉमर्स के बारे में विस्तारपूर्वक रूप से जान लेते हैं।

E commerce क्या है?

जैसा के दोस्तों आप लोगों पर पड़े ही चुके हैं. कि ई-कॉमर्स शब्द से मतलब इंटरनेट कॉमर्स होता है। लेकिन किसी भी बिजनेस का लेनदेन हो तो वह ऑनलाइन किया गया हो तो साथियों यहां पर यह तात्पर्य निकलता है। कि कोई भी खरीदार हो और वह इंटरनेट के माध्यम किसी सामान्य या फिर सर्विस को खरीदना है।तो उस से रिलेटेड पैसों एवं डाटा का ऑनलाइन बिजनेस के साथ लंदन करने का काम करता है। तो यह सारे काम यह कॉमर्स के अंडर में आते हैं। हालांकि इंटरनेट पर ई-कॉमर्स के काफी सारे मंच अवेलेबल हैं। उनके उपयोग से ऑनलाइन खरीदारी कर सकते हैं? तो अब आप लोग e commerce के बारे में काफी अच्छी तरीके से समझ गए होंगे।

E commerce के प्रकार क्या हैं ?

दोस्तों आमतौर पर e-commerce को मुख्य रूप से चार भागों में बांटा गया है। जो क्रेता एवं विक्रेता के बीच होने वाली किसी भी ऑनलाइन बिक्री या फिर लेनदेन को दर्शाने का काम करता है।

(1) बिजनेस टू कंस्यूमर

जब एक व्यापारी द्वारा किसी भी सामने आवे सर्विस को ऑनलाइन तरीके से सीधे रूप में किसी उपभोक्ता को बेचा जाए तो वह प्रक्रिया बिजनेस टू कंस्यूमर चलाती है। उदाहरण के तौर पर जैसे आप अपनी किसी घड़ी, फोन एवं टी-शर्ट इत्यादि सामान को खरीदने हैं

(2) बिजनेस टू बिजनेस

जब एक व्यापारी के द्वारा दूसरे व्यापारी को कोई भी सर्विस या फिर सामान ऑनलाइन बेचा जाता है? तो इसे बिजनेस टू बिजनेस कहते हैं। एग्जांपल के तौर पर जैसे एक व्यापार द्वारा किसी दूसरे व्यापार के इस्तेमाल के लिए कोई सॉफ्टवेयर बेच दिया या फिर उस से रिलेटेड सर्विस को प्रदान करते हैं।

(3) कंस्यूमर टू कंस्यूमर

जब कोई प्रोडक्ट या फिर सर्विस किसी उपभोक्ता के द्वारा दूसरे किसी उपभोक्ता को भेजी जाती है। तो यह प्रक्रिया कंस्यूमर टू कंस्यूमर कहलाती है। जैसे कि उपभोक्ता के जरिए घर की कोई पुरानी चीज या फिर कोई सामान हो जैसे कि सो पाया पर कोई पुरानी मशीन तो उसे ऑनलाइन तरीकों से दूसरे उपभोक्ता को बेचना होता है।

(4) कंस्यूमर टू बिजनेस

जब एक उपभोक्ता के जरिए किसी व्यापार को अपनी सर्विस यह प्रोडक्ट को बेचते हैं। तो उसे कंस्यूमर टू बिजनेस कहते हैं।उदाहरण के तौर पर अगर हम आपको बताएं जैसे कि कोई भी उपभोक्ता हो वह कुछ लिखकर या फिर अपने फोटोग्राफी स्किल्स से किसी व्यापार को मूल्य देता हूं जिससे व्यापार का विज्ञापन हो जाए।

E commerce के फायदे?

जैसा कि दोस्तों आप सभी लोग जानते होंगे कि आज क्या यह समय ऑनलाइन सामान खरीदने का चल रहा है। तू जा से ज्यादा इंटरनेट उपभोक्ता ऑनलाइन खरीदारी यानी कि ई-कॉमर्स का उपयोग करते हैं। तो यहां पर सबसे महत्वपूर्ण काम यह भी बन जाता है।कि आपको इसके नुकसान एवं फायदे के बारे में पता हो तो आइए इनके बारे में भी जान लेते हैं।

(1) किसी सर्विस या प्रोडक्ट को अपनी पसंद से चुनना

दोस्तों ई कॉमर्स से एक उपभोक्ता को अपनी मनपसंद के किसी प्रोडक्ट या पर सर्विस को खरीदने के बहुत सारे विकल्प मिल जाते हैं। और दोस्तों इसके अंदर इसकी विविधता एवं क्षेत्र असीमित हो जाते हैं। कहने का मतलब है कि एक ही जगह पर बैठकर कई मंचों से लेने वाले सामान की तुलना कर सकते हैं।

(2) सुविधा

साथियों कोई भी उपभोक्ता हो उसे खरीदारी करने की सुविधा भी मिल जाती है। जैसे अगर आप लोग कहीं सफर कर रहे हो या फिर मौसम खराब होने की वजह से बाहर नहीं जा पा रहे हो तो ऐसे समय में आपको चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है। क्योंकि ई-कॉमर्स के जरिए आप लोग घर बैठकर भी खरीदारी कर सकते हो।

(3) समय को बचाना

दोस्तों ई-कॉमर्स के द्वारा समय बहुत ही बचता है। यानी कि इसमें समय की बहुत ज्यादा बचत हो जाती है। आपको बाहर जाने या फिर किसी भी अलग-अलग दुकानों पर जाकर सामान खरीदने या फिर सामान को सेलेक्ट करने का कोई भी झंझट नहीं रहता है।

E commerce के नुकसान

दोस्तों जिस प्रकार ई-कॉमर्स के कुछ फायदे हैं। तो उसी के साथ इसके कुछ नुकसान भी होते हैं। अगर आप उन नुकसान के बारे में जानना चाहते हैं। तो इस पोस्ट को आगे तक पढ़ते रहिए।

(1) सुरक्षा

दोस्तों ऑनलाइन सामान खरीदने में सबसे बड़ी कमी यहां पर सुरक्षा के बारे में होती है। जैसे मान लो आप लोग ई-कॉमर्स वेबसाइट पर अपनी पूरी जानकारी देते हो जैसे अपना नाम पता एवं क्रेडिट कार्ड से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण डिटेल्स तो इससे आपके घर पर चोरी होने के चांसेस बन जाते हैं।

Alexa Ranking क्या होता है?

Adidas किस देश की कंपनी है और इसके मालिक कौन हैं ?

(2) धोखे का डर रहना

दोस्तों बहुत बार कस्टमर ई-कॉमर्स से खरीदारी करने से बच जाता है कहने का मतलब है। कि वह जिस ई-कॉमर्स साइट से खरीदारी कर रहा है। उस पर वास्तविक रूप से वह प्रोडक्ट उपलब्ध है। या फिर नहीं तो यही डर ग्राहक के मन में रहता है।ऐसे में अगर कुछ लोकप्रिय ई-कॉमर्स कंपनियों को छोड़ते हैं। तो इंटरनेट पर 1 दिन में हजारों की संख्या में वेबसाइट बनकर तैयार हो जाती हैं। जिनसे अक्सर फ्रॉड भी हो जाता है।

(3) खरीदने से पहले ट्राई नहीं कर सकते

दोस्तों जैसे कि आप किसी शोरूम या फिर दुकान में से किसी सामान को छू कर देख सकते हो तो इस प्रकार आप लोग ऑनलाइन सामान खरीदने वक्त यानी कि ई-कॉमर्स वेबसाइट पर ऐसे चेक नहीं कर सकते हो तो ऐसे में ऑनलाइन सामान खरीदने वक्त मन में एक शक सा बना रहता है।

अंतिम शब्द

दोस्तों आज किस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको बताया है। कि “E Commerce क्या होता है” और यह कितने प्रकार के होते हैं?इसके अलावा हमने आपको यह कॉमर्स के फायदे एवं नुकसान के बारे में भी बताया है।तो हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दी गई है जानकारी बहुत पसंद आई होगी और इससे आपको फायदा भी मिलेगा और जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने सभी दोस्तों के बाद जरूर शेयर करें धन्यवाद।

Leave a Comment